क्या मुस्लिम विशेषज्ञों ने लगवाई हैं रामदेव की कोरोनिल दवा पर रोक ? – जानिए सच

बाबा रामदेव योग गुरु हैं साथ में पतंजलि नाम की आयुर्वेद कम्पनी हैं. पतंजलि की तरफ बालकृष्ण आचार्य ने दावा किया था की उनकी तरफ़ से कोरोना की दवाई बना ली गयी हैं और उसे जल्द ही लॉंच किया जाएगा. पतंजलि ने 3-4 दिन बाद ही दवा को लॉंच कर दिया, मगर आयुष मंत्रालय ने आपत्ति जताते हुए कहा की हमारे पास इसकी कोई जानकारी नहीं हैं. जब तब आयुष विभाग इसकी जाँच ना कर ले तब तक बाबा रामदेव व उनकी कम्पनी इसका प्रचार-प्रसार ना करें.

क्या मुस्लिम विशेषज्ञों ने लगवाई हैं रामदेव की कोरोनिल दवा पर रोक ?

सोशल मीडिया पर कई ज्ञानी लोग उपस्थित हैं जो दावा कर रहें हैं कि मुस्लिम विशेषज्ञों ने मिलकर बाबा रामदेव की कोरोनिल दवा पर रोक लगवाई हैं. सोशल मीडिया पर लोग इस दावे को धड्डले से शेयर कर रहें हैं. दरअसल सोशल मीडिया पर 1 मैसेज खूब वायरल हो रहा है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि आयुष मंत्रालय रामदेव की इस दवा को इसलिए रोक रहा है, क्योंकि दवाओं को मंजूरी देने वाले उसके मुख्य वैज्ञानिक मुस्लिम हैं.

  • दावा: दावा किया जा रहा हैं कि आयुष मंत्रालय ने रामदेव की दवा कोरोनिल पर इसलिए रोक लगाई क्योंकि दवा के साइंटिफिक पैनल के कुछ प्रमुख लोग मुस्लिम समाज से हैं.
  • सच: सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा यह मैसेज पूरी तरह से फ़ेक हैं. आपको बता दें कि दावे में जिन वैज्ञानिकों के नाम शेयर किए जा रहें हैं वो यूनानी चिकित्सा विभाग से जुडे हैं और वे लोग इस दवा को मंजूरी देने वाले किसी पैनल का हिस्सा नहीं हैं. जानकारी के लिए बता दें कि सभी आयुर्वेदिक दवाओं के लिए लाइसेंस राज्य सरकारों के आयुष मंत्रालय जारी करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WhatsApp chat
WhatsApp Group से जुड़ें