1 दिन पहले मिला पद्मश्री और अगले दिन बैठे धरने पर – जानिए वजह

0
208

हरियाणा के वीरेंद्र रेसलर जोकी गूंगा पहलवान के नाम से पूरे देशभर में मशहूर हैं जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर देश का नाम रोशन किया है। बीते 9 नवम्बर यानी मंगलवार को भारतीय राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पहलवान वीरेंद्र सिंह को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया था। जिसके 1 दिन बाद ही पहलवान वीरेंद्र सिंह दिल्ली में हरियाणा भवन पर धरने में बैठे हैं।

धरने पर बैठने का ये हैं कारण

सभी के मन में एक ही सवाल हैं की देश का चौथा सबसे बड़ा अवार्ड पाने के बाद भी वीरेंद्र पहलवान घरने पर क्यों बैठ गये हैं। आपको बता दें की पहलवान वीरेंद्र सिंह हरियाणा सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे हैं। वह मूक बधिर पैरा खिलाड़ियों को समान अधिकार देने की मांग को लेकर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के आवास के बाहर धरने पर बैठे हुए हैं। पहलवान वीरेंद्र सिंह का कहना है कि जब तक हरियाणा के सीएम मनोहरलाल खट्टर उनकी मांग को पूरा नहीं करेंगे, वह धरना खत्म नहीं करेंगे।

पहलवान वीरेंद्र सिंह का कहना है कि हरियाणा प्रदेश में भी मूक-बधिर खिलाड़ियों को पैरा खिलाड़ियों के समान अधिकार दिए जाएं। गौरतलब है कि हरियाणा के पहलवान वीरेंद्र सिंह को अर्जुन पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा की “माननीय मुख्यमंत्री श्री @mlkhattar जी आपके आवास दिल्ली हरियाणा भवन के फुटपाथ पर बैठा हूँ और यहाँ से जब तक नहीं हटूँगा जब तक आप हम मूक-बधिर खिलाड़ियों को पैरा खिलाड़ियों के समान अधिकार नहीं देंगे, जब केंद्र हमें समान अधिकार देती है तो आप क्यों नहीं? @ANI