8 पुलिसवालों को मौत के घाट उतारने वाले विकास दुबे की मौत के बाद – लोगों ने पुलिस जिंदाबाद के नारे लगाए
8 पुलिसवालों को मौत के घाट उतारने वाले विकास दुबे की मौत के बाद – लोगों ने पुलिस जिंदाबाद के नारे लगाए

8 पुलिसवालों को मौत के घाट उतारने वाले विकास दुबे की मौत के बाद – लोगों ने पुलिस जिंदाबाद के नारे लगाए

जिले के बिकरू गाँव में हाल ही में 8 पुलिसकर्मीयों की हत्या करके फरार हुए गैंगस्टर विकास दुबे को एनकाउंटर के दौरान मार गिराया गया. इस बारे में बताया जा रहा है कि यूपी एसटीएफ की एक टीम विकास दुबे को उज्जैन से कानपूर की ओर ले जा रही थी वहीँ रास्ते में शहर से लगभग 17 किलोमीटर दूर सुबह 6.30 मिनट पर पुलिस की गाडी पलट गई. इस गाडी में विकास दुबे भी सवार था. वहीँ आईजी मोहित अग्रवाल ने कहा कि वह पूरे मामले की डिटेल्स एक प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन करके देंगे.

पुलिस पर किया था हमला

रिपोर्ट्स के अनुसार गाडी पलटने के बाद विकास दुबे ने बिना समय गंवाते पुलिसकर्मी की पिस्टल चीन ली और उस पर हमला करने का प्रयास किया. इसका बचाव करते हुए वह पुलिसकर्मी बुरी तरह से घायल हो गया. बताया जा रहा है कि इस छीनाझपटी के दौरान दो गोलियां उसके सीने से पार हो गईं. जिसके बाद तुरंत उसे अस्पताल ले जाया गया. यहीं सुबह करीब 7 बजकर 55 मिनट पर विकास को डॉक्टर्स ने मृत घोषित कर दिया. आईजी ने उसके मारे जाने की पुष्टि की. बता दें कि गुरुवार को उज्जैन के महाकाल मंदिर से उसे गिरफ्तार किया गया था. वहीँ शव के कोरोना जांच के सैंपल भी लैब भिजवा दिए गए हैं.

तेज़ बारिश के कारण पलटी थी गाड़ी

इस मामले में फिलहाल यूपी पुलिस कुछ भी कहने से झिजक रही है. वहीँ यह अनुमान लगाया जा रहा है कि तेज़ बारिश के चलते गाड़ी पलट गई थी जिसमे 4 जवान बुरी तरह से घायल हुए. मिली जानकारी के अनुसार उज्जैन मंदिर में करीब 9 बजे विकास दुबे को गिरफ्तार किया गया था. इस बीच वह बार बार डर से चिल्ला रहा था कि, “मैं विकास दुबे हूँ, कानपूर वाला.”इसके बाद पुलिस उसे ट्रेनिंग सेंटर ले गई वहां लगभग 2 घंटे की पूछताछ के बाद उसको कानपूर ले जाया जा रहा था. इसी बीच एनकाउंटर के दौरान उसकी जान चली गई.